गोवंश के हत्यारो का पर्दाफाश तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार ,इस तरह दिया वारदात को अंजाम
bisnoe-samachar

गोवंश के हत्यारो का पर्दाफाश तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार ,इस तरह दिया वारदात को अंजाम

सदर थाना क्षेत्र के सरवराबाद के पास जंगल में तीन दिन पहले गोवंश के मिले अवशेष के मामले का पर्दाफाश सदर थाना पुलिस ने कर दिया है। पुलिस ने तीन दिन में ही इसके तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।
WhatsApp Group Join Now
 
गोवंश के हत्यारो का पर्दाफाश तीन आरोपियों को किया गिरफ्तार ,इस तरह दिया वारदात को अंजाम

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- सदर थाना क्षेत्र के सरवराबाद के पास जंगल में तीन दिन पहले गोवंश के मिले अवशेष के मामले का पर्दाफाश सदर थाना पुलिस ने कर दिया है। पुलिस ने तीन दिन में ही इसके तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

एसपी राजर्षि राज ने बताया कि 24 दिसंबर को सदर थाना क्षेत्र के बनास नदी की पेटा भूमि पर गोवंश के अवशेष मिले थे। इसको लेकर लोगों ने नाराजगी जताते हुए जल्द इसके आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की थी। पुलिस ने गौवंश के हत्यारों की तलाश शुरू की। इसके लिए मुखबीर से लेकर सहायता ली गई। पुलिस ने इस मामले को लेकर कई संदिग्धों से पूछताछ की। पूछताछ के बाद पुलिस टीम ने गोवंश की हत्या के आरोपी किशन मोग्या पुत्र जगदीश मोग्या निवासी चन्दलाई थाना सदर टोंक, राकेश पुत्र कैलाश बावरिया निवासी पांचोलास थाना रवाजना डूंगर जिला सवाई माधोपुर, शमसाद पुत्र भैया सरदार निवासी सौराब खां की गली ताल कटोरा टोंक, थाना कोतवाली टोंक को गिरफ्तार किया है।

किशन मोग्या ने पूछताछ में बताया कि वह नील गाय (रोज) मार कर जयपुर में कुछ स्थानों पर मीट सप्लाई करता था। 24 दिसंबर को नीलगाय के मीट की व्यवस्था नहीं हुई तो साथियों के साथ बनास नदी के पास अपनी जीप लेकर गया। वहां मौजूद दो गायों को केटल घास व बजरी के ढेर की आड़ में ले जाकर तथा घने कोहरे का फायदा उठाकर अपने साथियों के साथ मिलकर दोनों गायों पर हथियारों से वार कर शिकार किया और उनका मांस पैक कर बेच दिया।

इस गैंग का मुख्य सरगना किशन मोग्या है, जिसने प्रारम्भिक पूछताछ में टोंक, बून्दी, सवाई माधोपुर, नैनवा, पीपल्दा, कोटा आदि के जंगलों से नीलगाय व गौवंश का अपने साथियों के साथ वध करना बताया है। पुलिस मामले में जांच कर रही है।