गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के जेल से इंटरव्यू के मामले में , SIT ने जांच की तेज
bisnoe-samachar

 गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के जेल से इंटरव्यू के मामले में , SIT ने जांच की तेज

कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के जेल से इंटरव्यू के मामले में स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) ने जांच तेज कर दी है। पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के आदेश पर दो एफआईआर दर्ज की गई हैं। SIT जांच के लिए राजस्थान जाने की तैयारी में भी है, क्योंकि इससे पहले गैंगस्टर वहां की जेल में था। 
WhatsApp Group Join Now
 
 गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के जेल से इंटरव्यू के मामले में , SIT ने जांच की तेज

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के जेल से इंटरव्यू के मामले में स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) ने जांच तेज कर दी है। पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के आदेश पर दो एफआईआर दर्ज की गई हैं। SIT जांच के लिए राजस्थान जाने की तैयारी में भी है, क्योंकि इससे पहले गैंगस्टर वहां की जेल में था। पहले तो SIT को ये पता लगाना है कि उसका इंटरव्यू हुआ किस जेल से है। इसके लिए जेल अधिकारियों से भी पूछताछ होगी। मामले में कोर्ट में 10 जनवरी को फिर सुनवाई है।


गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का इंटरव्यू वर्ष 2023 में 14 और 17 मार्च को प्रसारित हुआ था। हालांकि उस समय पंजाब पुलिस पर सवाल उठे थे। फिर पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। डीजीपी गौरव यादव ने दावा किया था कि इंटरव्यू बठिंडा या पंजाब की किसी भी जेल से नहीं हुआ है। पुलिस ने आरोपी की 2 तस्वीरें दिखाते हुए कहा था- जब लॉरेंस को बठिंडा जेल लाया गया तो इसके बाल कटे थे और दाढ़ी-मूछ नहीं थी। हालांकि तब लॉरेंस ने भी पुलिस को थ्योरी को गलत ठहराने में कसर नहीं छोड़ी थी।


पंजाब पुलिस पहले दलील दे चुकी है कि लॉरेंस का इंटरव्यू पंजाब में नहीं हुआ है। 8 मार्च 2023 को राजस्थान पुलिस ने रिमांड खत्म होने के बाद लॉरेंस बिश्नोई को बठिंडा जेल पहुंचाया। 9 मार्च को तलवंडी साबो अदालत में पेश कर एक दिन का रिमांड लिया गया। 10 मार्च को दोबारा बठिंडा जेल में लाया गया, जबकि इंटरव्यू 14 मार्च को प्रसारित हुआ। आरोपी को बठिंडा हाई सिक्योरिटी जेल में रखा गया था। वहां पर हार्ड कोर क्रिमिनल रखे जाते हैं। जहां पर एक बैरक में एक कैदी रहता है।

वहां पर पंजाब सरकार ने केंद्र सरकार के सहयोग से अति आधुनिक उपकरण स्थापित किए हैं। जहां पर फोन बिल्कुल नहीं चलते हैं। कैदी पर 24 घंटे कैमरों से नजर रखी जाती है। वहीं, दोहरा सुरक्षा पहरा रहता है। दिन में तीन से चार बार कैदियों की जांच की जाती है। जेल में रात के समय लाइट बंद नहीं होती है, कैदियों की मूवमेंट पर नजर रहती है। जबकि 17 को दूसरा इंटरव्यू हुआ था। हालांकि वहां की पुलिस दावा कर चुकी है कि उनकी जेल में भी इंटरव्यू नहीं हुआ है।


गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई इस समय गुजरात की जेल में नशा तस्करी से जुडे़ केस में बंद है। अब वह आने वाले कुछ समय में पंजाब समेत विभिन्न राज्यों में दर्ज केसों में फिजिकल रूप में पेश नहीं होगा। गुजरात की अहमदाबाद स्थित सेंट्रल जेल से ही उसकी ऑनलाइन या वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पेशी कराई जा रही है। क्योंकि केंद्र सरकार ने उसकी सुरक्षा को देखते हुए उस पर सीआरपीसी की धारा 268 लगा दी है। इस संबंधी गुजरात की पुलिस इस बारे में सूचित कर चुकी है।