ऑनलाइन शराब की सप्लाई ,एक सप्लायर गिरफ्तार, होगा बड़ा खुलासा
bisnoe-samachar

ऑनलाइन शराब की सप्लाई ,एक सप्लायर गिरफ्तार, होगा बड़ा खुलासा

WhatsApp Group Join Now
 
ऑनलाइन शराब की सप्लाई ,एक सप्लायर गिरफ्तार, होगा बड़ा खुलासा

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- चलता फिरता ठेका, व्हिस्की ऑन व्हील नाम से ऑनलाइन शराब की डोर टू डोर सप्लाई करने वाली गैंग के बदमाश को जवाहर सर्किल थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पूछताछ में पता चला कि फूड सप्लाई की आड़ में डोर टू डोर शराब की सप्लाई का नेटवर्क खड़ा कर रखा है। गैंग में करीब 25 लोग शामिल हैं, जो 24 घंटे शराब की सप्लाई करते हैं। गैंग के लोग 24 घंटे में करीब 1.70 लाख रुपए कीमत की शराब सप्लाई कर देते हैं। गैंग के सरगना ने ऑनलाइन डिमांड के साथ ऑनलाइन पेमेंट का सिस्टम बना रखा है। गैंग के लोग एक-दूसरे से मिलते नहीं है और पूछताछ भी नहीं कर सकते। पूरा नेटवर्क डिजिटल तरीके से कार्य कर रहा है।

थानाधिकारी दलबीर सिंह ने बताया कि आरोपी भवानी सिंह निवासी मांडोता सीकर को अवैध रूप से डोर टू डोर शराब की सप्लाई करते मंगलवार रात को गिरफ्तार किया है। उससे 2 मोबाइल फोन, शराब सप्लाई के उपयोगी में ली जा रही बाइक और करीब 7 हजार रुपए कीमत की शराब व बीयर जब्त की है। उन्होंने बताया कि रात को शराब पीकर झगड़े करने वालों की शिकायत मिली। इस पर पूछताछ में घर पर ही शराब सप्लाई करने की जानकारी मिली। इसके बाद स्टिंग ऑपरेशन कर पालिका बाजार मालवीय नगर में शराब की सप्लाई करवाई गई।

सप्लायर भवानी को तय स्थान पर आते ही सप्लाई करते गिरफ्तार कर लिया। उसके एक मोबाइल में पिछले 8 महीने की शराब खरीद की डिटेल मिली है। भवानी ने गैंग को सीकर हाल वैशाली नगर निवासी भानू प्रताप द्वारा संचालित करना बताया है। शराब सप्लाई को लेकर भानू प्रताप की गैंग का दूसरी गैंग से जवाहर सर्किल इलाके में 3 महीने पहले झगड़ा हुआ था, जिसमें फायरिंग भी हुई थी। गैंग का जवाहर सर्किल, मालवीय नगर, जगतपुरा का नेटवर्क अजय मीणा संभालता है।

पुलिस को भवानी से जानकारी मिली है कि गैंग में करीब 25 लोग शामिल हैं, जो 24 घंटे शराब की सप्लाई का काम करते हैं। वे करीब 1.70 लाख रुपए कीमत की शराब सप्लाई कर देते हैं। शराब कहां से लाकर सप्लाई की जाती है इसकी जानकारी सप्लायर को नहीं मिलती है। वे वॉटसऐप पर अपनी लोकेशन भेजकर शराब मंगवाते हैं। शराब की सप्लाई लग्जरी कारों में पिट्टू बैग में डिमांड के अनुसार शराब की बोतलें रखकर ऑनलाइन रुपए लेकर की जाती है।

गैंग से जुड़े लोग वॉट्सऐप कॉल पर ऑर्डर मिलने के बाद शराब की सप्लाई करते हैं। वे शराब की कीमत भी ऑनलाइन ही लेते हैं। नेटवर्क में जुड़े ज्यादातर ग्राहक स्थायी हैं, जो कीमती शराब मंगवाते हैं। सप्लायर भी डिमांड के अनुसार ब्रांड रखते हैं।

पुलिस पूछताछ में सामने आया कि गैंग से जुड़े बदमाश पॉश इलाके में शराब की दुकानों पर लग्जरी कारों में शराब खरीदने आने वाले लोगों से फोन नंबर की अदला-बदली कर डोर टू डोर शराब सप्लाई करना बताते हैं। फोन नंबर मिलने के बाद नेटवर्क से जुड़े बदमाश ग्राहक को उसकी पसंद के बारे में पूछताछ करते हैं। साथ ही वे सप्लाई के तरीके के बारे में बताते हैं।