जोधपुर में शादी समारोह में एक युवक की गोली मारकर हत्या ,2 आरोपी गिरफ्तार
bisnoe-samachar

जोधपुर में शादी समारोह में एक युवक की गोली मारकर हत्या ,2 आरोपी गिरफ्तार

WhatsApp Group Join Now
 
जोधपुर में शादी समारोह में एक युवक की गोली मारकर हत्या ,2 आरोपी गिरफ्तार

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- पिता की हत्या का बदला लेने के लिए दो भाइयों ने एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। हत्या के बाद दोनों फरार हो गए। पुलिस ने शुक्रवार सुबह दबिश देकर खेत में छुपे भाइयों को पकड़ लिया। पकड़े गए आरोपियों में एक नाबालिग है। मामला जोधपुर के बनाड़ा थाना क्षेत्र के खेड़ी सलवा कला गांव की है।

डीसीपी अमृता दुहान ने बताया कि गुरुवार शाम करीब पांच महादेव नगर बनाड़ का निवासी अनिल लेगा (27) की सिर में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। युवक खेड़ी सलवा कला गांव में शादी समारोह में गया था। लौटते हुए उसे आरोपी विष्णु (19) और उसके नाबालिग भाई ने गोली मार दी।

डीसीपी ने बताया कि हत्या के बाद आरोपी मौके पर कार छोड़कर भाग गए थे। पुलिस टीम ने अलग-अलग इलाकों में तलाश की। शुक्रवार सुबह आरोपियों के गांव के पास के ही खेत से दोनों को पकड़ लिया। वारदात के बाद दोनों खेत में छुपे थे और भागने की फिराक में थे।

डीसीपी ने बताया कि मृतक अनिल लेगा और आरोपियों के परिवारों के बीच 40 साल पुरानी रंजिश है। 1970 में दोनों परिवार गांव खेड़ी सालवा में पड़ोसी थे। किसी बात पर दोनों परिवार के बीच झगड़ा हो गया था। एक-दूसरे पर हथियारों से वार किया था। हमले में अनिल लेगा के दादा चतुराराम के सिर पर चोट लगी, जिस कारण उनकी मौत हो गई थी। अनिल के दादा को आरोपी के पिता थानाराम ने लाठी मारी थी। इसका बदला लेने के लिए अनिल लेगा ने 2018 में थानाराम की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वह अपने पोते की स्कूल में स्वतंत्रता दिवस समारोह में जा रहा था। उस दौरान गोली मारी थी।

जानकारी के अनुसार आपसी रंजिश के बाद अनिल लेगा का परिवार जोधपुर शहर में आकर बस गया था। खेड़ी सालवां गांव में उनका आना-जाना भी नहीं था। शादी समारोह में उनके परिवार को न्योता नहीं जाता था। छात्रनेता और छात्रसंघ के पूर्व महासचिव सुनिल विश्नोई की 18 जनवरी (गुरुवार ) को शादी थी। सुनिल विश्नोई जोधपुर शहर में रहता था और अक्सर अनिल लेगा से मिलना होता था। सुनिल के दोस्तों के ग्रुप में लेगा भी होने से इनविटेशन अनिल को भी दिया गया। इस पर अनिल लेगा अपने भाई जितेंद्र और अन्य दोस्तों के साथ शादी समारोह में पहुंचा था।

शादी में अनिल लेगा को देखकर विष्णु ने मर्डर का प्लान कर लिया था। वह अपने नाबालिग भाई के साथ गांव के चौराहे पर घात लगाकर बैठा था। चौराहे पर अनिल लेगा गाड़ी से उतरा और बाहर खड़ा था। तभी पांच राउंड फायर हुए और गांव में सनसनी फैल गई। भाई जितेंद्र और अन्य दोस्त अनिल को गाड़ी में डालकर हॉस्पिटल पहुंचे, लेकिन उसकी मौत हो चुकी थी।

गे थे।

अनिल लेगा मोंटू कंडारा गैंग का सदस्य था। मोंटू कंडारा का रातानाडा थाना क्षेत्र में जब एनकाउंटर हुआ, उस समय गाड़ी अनिल लेगा चला रहा था। अनिल पर हत्या और अन्य गंभीर मामलों में 9 केस दर्ज थे। इन मामलों में जमानत पर बाहर था।

हत्या के बाद लेगा परिवार की ओर से साऊ परिवार के घरों में महिलाओं पर हमला और उनका घर जलाने की फेक न्यूज समाज के वॉट्सऐप ग्रुप में चली। पुलिस को इसकी सूचना मिलते ही इस पर कार्रवाई की। पुलिस ने आरोपियों के परिवार को सुरक्षा दी और फेक मैसेज करने वाले पर कार्रवाई की।