लॉरेंस और उसके साथी गोल्डी बराड़ गैंग का गुर्गा  गैंगस्टर विक्की  गिरफ्तार ,राजस्थान में 20 केस दर्ज
bisnoe-samachar

लॉरेंस और उसके साथी गोल्डी बराड़ गैंग का गुर्गा  गैंगस्टर विक्की  गिरफ्तार ,राजस्थान में 20 केस दर्ज

पंजाब पुलिस की एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स ने मोहाली से गैंगस्टर विक्रमजीत सिंह उर्फ विक्की को गिरफ्तार किया है। लॉरेंस गैंग के लिए काम करने वाले विक्की पर पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में 20 केस दर्ज हैं।
WhatsApp Group Join Now
 
लॉरेंस और उसके साथी गोल्डी बराड़ गैंग का गुर्गा  गैंगस्टर विक्की  गिरफ्तार ,राजस्थान में 20 केस दर्ज

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- पंजाब पुलिस की एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स ने मोहाली से गैंगस्टर विक्रमजीत सिंह उर्फ विक्की को गिरफ्तार किया है। लॉरेंस गैंग के लिए काम करने वाले विक्की पर पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में 20 केस दर्ज हैं। इनमें मर्डर के अलावा हत्या प्रयास और UAPA जैसे संगीन मामले शामिल हैं। वह राजस्थान के श्रीगंगानगर में हुए मशहूर जॉर्डन हत्याकांड में वांटेड था।

पंजाब के डीजीपी गौरव यादव ने सोशल मीडिया पर गैंगस्टर विक्रमजीत सिंह उर्फ विक्की की गिरफ्तारी की जानकारी दी। डीजीपी के अनुसार, विक्की कनाडा में बैठे लॉरेस गैंग के गोल्डी बराड़ और दूसरे गैंगस्टरों के इशारे पर काम करता था। उसके संबंध पाकिस्तान में बैठे ड्रग स्मगलरों से भी हैं। खूंखार क्रिमिनल्स की कैटेगरी में शामिल विक्की वर्ष 2018 में राजस्थान के श्रीगंगानगर में हुए एक एनकाउंटर में भी शूटर के तौर पर शामिल था।

पकड़े गए गैंगस्टर विक्रमजीत सिंह उर्फ विक्की ने वर्ष 2018 में अपने दो साथियों के साथ मिलकर श्रीगंगानगर में विनोद चौधरी उर्फ जॉर्डन नामक हिस्ट्रीशीटर की हत्या कर दी थी। इन लोगों ने जॉर्डन को सुबह साढ़े 5 बजे उस समय गोलियां मारी जब वह श्रीगंगानगर के एक जिम में वर्क आउट कर रहा था। उस हत्याकांड में विक्की के साथ मौजूद उसके 2 साथियों में से एक गैंगस्टर अंकित भादू था। हत्याकांड के समय जॉर्डन जिम में अकेला ही वर्कआउट कर रहा था।

श्रीगंगानगर के बेहद चर्चित जॉर्डन हत्याकांड के बाद से ही राजस्थान पुलिस गैंगस्टर अंकित भादू के पीछे लगी हुई थी। वर्ष 2019 में अंकित भादू मोहाली के जीरकपुर इलाके में छिपा हुआ था जब राजस्थान पुलिस ने पंजाब पुलिस के साथ मिलकर उसका एनकाउंटर किया। 25 साल के अंकित भादू पर तकरीबन 22 मुकदमे दर्ज थे।