गोगामेड़ी हत्याकांड में शामिल सात बदमाशों को एनआईए कोर्ट ने भेजा जेल
bisnoe-samachar

गोगामेड़ी हत्याकांड में शामिल सात बदमाशों को एनआईए कोर्ट ने भेजा जेल

एनआईए ने कोर्ट के आदेश पर चार दिन पहले ही इस हत्याकांड से जुड़ी केस डायरी और आरोपियों को अपने कब्जे में ले लिया था। इसके बाद गिरफ्तार सभी बदमाशों से एनआईए अपने स्तर पर सोडाला थाने में पूछताछ कर रही हैं।
WhatsApp Group Join Now
 
गोगामेड़ी हत्याकांड में शामिल सात बदमाशों को एनआईए कोर्ट ने भेजा जेल

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- सुखदेव सिंह गोगामेड़ी हत्याकांड में शामिल सात बदमाशों को एनआईए कोर्ट ने जेल भेज दिया है। एनआईए ने सातों आरोपियों को आज कोर्ट में पेश किया था। जहां से सभी को 2 जनवरी तक जेल भेज दिया गया है।

दरअसल, एनआईए ने कोर्ट के आदेश पर चार दिन पहले ही इस हत्याकांड से जुड़ी केस डायरी और आरोपियों को अपने कब्जे में ले लिया था। इसके बाद गिरफ्तार सभी बदमाशों से एनआईए अपने स्तर पर सोडाला थाने में पूछताछ कर रही हैं।

टीम ने सोमवार को नितिन फौजी, रोहित राठौर, रामवीर जाट, सुमित, राहुल, भवानी उर्फ रोनी, उधम सिंह को एनआईए कोर्ट में पेश किया। पुलिस ने गोगामेड़ी की हत्या करने वाले 2 शूटर रोहित राठौड़ और नितिन फौजी के साथ ही उनका सहयोग करने वाले आरोपियों को भी पकड़ा है।

मामले की जांच के लिए एडीजी क्राइम दिनेश एमएन ने एडिशनल कमिश्नर कैलाश बिश्नोई के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया था। एसआईटी ने हत्या करने वाले शूटर मकराना के जूसरी निवासी रोहित राठौड़, हरियाणा के महेंद्रगढ़ निवासी नितिन फौजी, फरारी में सहयोग करने वाले रामवीर जाट, उधम सिंह और वारदात के पहले नितिन को पनाह देने के मामले में पूजा सैनी को गिरफ्तार कर लिया था। इसके साथ ही हत्या की साजिश में शामिल भवानी सिंह उर्फ रोनी, राहुल और सुमित को हरियाणा की जेल से प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार किया था।

इस हत्याकांड के शूटरों तक हथियार पहुंचाने वाला कोटा के गुमानपुरा निवासी हिस्ट्रीशीटर महेंद्र उर्फ समीर हथियार लेकर फरार हो गया। जिसे पकड़ने के लिए संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। पुलिस को अंदेशा है कि महेंद्र के पास एके-47 भी हो सकती है, क्योंकि उसकी पत्नी पूजा सैनी के पास से पुलिस को एक फोटो मिली हैं, जिसमें उसके फ्लैट पर एके-47 रखी हुई है। यह एके-47 राजू ठेहट हत्याकांड के लिए मंगवाई गई थी। महेंद्र ने हत्याकांड के लिए हथियार और पैसे की व्यवस्था की थी। महेन्द्र ने परिचित युवती के बैंक खाते में चंडीगढ़ से किसी के जरिए 6 लाख रुपए मंगवाए थे। पुलिस ने महेंद्र पर 2 लाख रुपए का इनाम भी घोषित कर रखा है।