गैंगस्टर रोहित गोदारा ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा दुश्मनों के बारे में....
bisnoe-samachar

गैंगस्टर रोहित गोदारा ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा दुश्मनों के बारे में....

WhatsApp Group Join Now
 
गैंगस्टर रोहित गोदारा ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा दुश्मनों के बारे में....

 Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- गैंगस्टर रोहित गोदारा के नाम से धमकी मिलने के कई मामले सामने आए हैं। अब गैंगस्टर ने खुद सोशल मीडिया के जरिए इस पर जवाब दिया है।

रोहित गोदारा ने कहा- 'जो उसके भाई शक्ति सिंह रानोली के दुश्मन है। वह उसकी गैंग के आजीवन दुश्मन रहेंगे।' 'सीकर के लोगों को भी उसके नाम पर रानोली के दुश्मन धमकी दे रहे हैं, मेरा उससे कोई लेना-देना नहीं है।'

गोदारा ने सीधे तौर पर अपने दुश्मनों को चेताया है। अब गैंगस्टर गोदारा NIA के निशाने पर भी आ गया है। NIA ने उस पर 5 लाख रुपए का इनाम घोषित किया है।

गैंगस्टर ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा
" राम राम सभी भाइयों को। मैं रोहित गोदारा कपूरीसर। सीकर में जो मेरे और मेरे ग्रुप के नाम से लोगों को धमकी मिल रही है। इन लोगों से मेरा कोई लेना-देना नहीं है। न ही मैं इनको जानता हूं। यह हमारे (भाई शक्ति सिंह रानोली) के दुश्मन है। जो मेरे भाई के दुश्मन हैं, वह हमारे आजीवन दुश्मन रहेंगे।

रही बात मेरे भाइयों की तो जो राजू ठेहट हत्याकांड में शामिल थे। वह सभी जेल में बंद है। बाकी जो सीकर में फालतू की हवाबाजी कर रहे हैं। लोगों को धमका रहे हैं। इनसे मेरा कोई लेना - देना नहीं है।
Lawarence#Bishnoi#group

शक्ति सिंह गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई और रोहित गोदारा का है खास
हिस्ट्रीशीटर रोहित गोदारा विदेश जाने से पहले बीकानेर के लूणकरणसर में रहता था। चूरू के सरदारशहर में 2019 में भींवराज सारण की हत्या के मामले में भी गोदारा मुख्य आरोपी था। वहीं शक्ति सिंह रानोली आनंदपाल गैंग का सदस्य है और फिलहाल जेल में बंद है।

रोहित गोदारा ने एक गैंग का होने के कारण शक्ति सिंह रानोली के दुश्मनों को अपना दुश्मन बताया है। राजू ठेहट की हत्या की प्लानिंग में भी दोनों साथ थे। ठेहट की हत्या के लिए रोहित गोदारा ने हरियाणा में भिवाणी के नवीन बॉक्सर गैंग से संपर्क किया था। गैंग के शार्प शूटर सीकर में छात्र बनकर आए थे और एक महीने तक रेकी की थी। इसके बाद ठेहट का मर्डर किया था।

जयपुर से पकड़ा गया था रानोली
राजू ठेहट की हत्या के लिए शक्ति सिंह रानोली ने शूटर्स को हथियार, शूटर, नकदी और गाड़ी सहित अन्य संसाधन उपलब्ध करवाए थे। करीब 10 महीने पहले पुलिस ने जयपुर के कालवाड़ रोड से गिरफ्तार किया था। उसके पास पुलिस को चार पिस्टल, छह मैग्जीन, एक देशी कट्टा व एक 12 बोर बंदूक सहित 104 कारतूस मिले थे। इसके खिलाफ रानोली, सरदारशहर-चूरू, जामसर-बीकानेर, फुलेरा व उद्योग नगर में आठ मुकदमे दर्ज हैं।

राजू ठेहट गैंग के विजय भार्गव को मारना चाहता था रानोली
राजू ठेहट गैंग का बदमाश विजय भार्गव और शक्ति सिंह रानोली दोनों रानोली इलाके के रहने वाले हैं। अलग-अलग गैंग के सदस्य होने के चलते दोनों एक-दूसरे के जान के दुश्मन है। ठेहट का मर्डर होने के बाद अब विजय भार्गव ज्यादा सक्रिय नहीं है।


सीकर के खाटूश्यामजी इलाके में प्रॉपर्टी डीलिंग और शराब ठेका चलाने वाले मनीष से रंगदारी मांगी गई थी। मामले में हिस्ट्रीशीटर संजय धायल के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज करवाई गई थी।

आरोप था कि रंगदारी मांगने वाले बदमाश ने अपने आप को रोहित गोदारा गैंग का सदस्य बताया था। पैसे नहीं देने पर सुखदेव सिंह गोगामेड़ी जैसी घटना होने की धमकी दी थी। बदमाश और उसके साथियों ने व्यापारी की गाड़ी का पीछा कर उसे रास्ते में रुकवाया भी था, जिनसे बचकर वह पुलिस थाने पहुंचा था।


सीकर के लक्ष्मणगढ़ इलाके में बिजनेसमैन संजय से एक करोड़ की रंगदारी मांगी गई थी। आरोपी ने व्हाट्सऐप पर कॉल कर खुद को रोहित गोदारा होना बताया और पैसे मांगे थे। पुलिस को दी रिपोर्ट में बताया था कि उसके पास व्हाट्सऐप पर 351965624703 नम्बर से कॉल आया।

कॉल करने वाले शख्स ने खुद को रोहित गोदारा होना बताया। कहा कि- संजय बहुत बड़ा व्यापारी हो गया है। अगर उसे व्यापार करना है तो हमारी गैंग को एक करोड़ की रंगदारी देनी होगी।

दूसरी बार वॉट्सऐप कॉल किया और वॉइस मैसेज भेजें। आरोपी ने बिजनेसमैन को धमकी देते हुए कहा- अगर उसने रंगदारी नहीं दी तो अंजाम बहुत बुरा होगा। जिसके बाद बिजनेस मैन घबरा गया और आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कराया।


हाल में सीकर के एक एनआरआई को भी रोहित गोदारा के नाम से धमकी मिली है। रानोली इलाके के शिश्यू के वार्ड नंबर 13 में रहने वाले एनआरआई कैलाश कुमार यादव ने पुलिस में मामला दर्ज करवाया है।

एनआरआई ने बताया कि उसके मोबाइल पर तीन-चार दिन लगातार वॉट्सऐप कॉल आए। सामने वाले ने कहा कि वह रोहित गोदारा बोल रहा है। इस पर एनआरआई ने फोन काट दिया।

दोबारा फोन आया तो रिसीव नहीं किया। इसके बाद उसे व्हाट्सऐप पर वॉइस मैसेज भेजा गया, जिसमें एनआरआई को धमकी दी गई कि तुमने किसका फोन काट दिया। मुझे पता है कि तुम और तुम्हारा बेटा दुबई रहते हो और तेरा एक बेटा यहीं रहता है। तुम्हारा बिल्डिंग लाइन का काम है। मैं तुझे प्रेम से कह रहा हूं।

आगे से अब तेरा चलाकर फोन आना चाहिए। तू भले ही मुकदमा दर्ज करवा देना और सुरक्षा गार्ड ले लेना। तू मेरी रेंज में है।जीवन भर बचने का प्रयास करता रहेगा लेकिन मैं 10 सेकंड में गोली मरवा दूंगा।

आरोपी ने रंगदारी देने में देरी करने पर रकम लगातार बढ़ाने की धमकी दी।एनआरआई कैलाश का कहना है कि पुलिस से जानकारी मिली कि उसे पुर्तगाल से वॉट्सऐप कॉल किया गया था।


गैंग से जुड़े लोग सिग्नल मैसेंजर ऐप यूज करते हैं, जिसमें वह मीडिएटर को बीच में रखकर एक-दूसरे से बात करते हैं। आम भाषा में इसे डब्बा कॉल कहा जाता है जिससे कि लोकेशन ट्रेस न हो सकें। राजू ठेहट मर्डर के लिए गोदारा ने सिग्नल मैसेंजर ऐप के जरिए ही शूटर्स से बात की थी।


मामले में सीकर एसपी परिस देशमुख का कहना है कि रोहित गोदारा के सोशल मीडिया पर अपलोड पोस्ट और रोहित गोदारा के नाम से मिली धमकियों को वेरिफाई किया जा रहा है। पूरी जांच होने के बाद हकीकत का पता चल पाएगा।