चित्तौड़गढ़ में तस्करों और पुलिस के बीच फायरिंग, पिस्टल व डोडाचूरा जब्त
bisnoe-samachar

चित्तौड़गढ़ में तस्करों और पुलिस के बीच फायरिंग, पिस्टल व डोडाचूरा जब्त

WhatsApp Group Join Now
 
चित्तौड़गढ़ में तस्करों और पुलिस के बीच फायरिंग, पिस्टल व डोडाचूरा जब्त

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- चित्तौड़गढ़ में डोडा-पोस्त तस्करों और पुलिस के बीच फायरिंग हुई है। यहां कार्रवाई करने गई टीम पर माल लोड कर रहे बदमाशों ने गाड़ी भी चढ़ाने की कोशिश की। इस दौरान मौका पाकर 3 बदमाश भाग छूटे। वहीं पुलिस को कार्रवाई के दौरान एक गुप्त अंडरग्राउंड कमरा भी मिला है, जहां डोडा-पोस्त का स्टॉक छिपाकर रखा जाता था।

यह पूरा मामला है भदेसर थाना इलाके के सांड गांव का। जहां सोमवार की रात को पुलिस ने गांव के एक खेत पर रेड मारी। एनडीपीएस की कार्रवाई करने गई टीम पर तस्करों ने फायरिंग कर दी, जिसके जवाब में पुलिस ने भी 2 राउंड फायर किए। इस दौरान तस्करों ने पुलिस पर गाड़ी भी चढ़ाने की कोशिश की और थानाधिकारी की निजी गाड़ी को टक्कर भी मारी। मौका पाकर 3 तस्कर भाग निकले। यहां खेत पर बने मकान में एक गुप्त अंडरग्राउंड कमरा भी मिला है, जहां डोडा-चूरा छिपाकर रखा जाता था। पुलिस को मौके से 1 पिस्टल और 6 जिंदा कारतूस भी मिले है। पुलिस ने खेत मालिक सहित 3 अज्ञात तस्करों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

सांड गांव में करूंदा, निंबाहेड़ा निवासी रामलाल पुत्र मदनलाल जाट के खेत पर एक मकान बना हुआ था। पुलिस को मुखबिर के जरिए सूचना मिली थी कि वहां पर 3 तस्कर एक गाड़ी में डोडा-चूरा भर रहे हैं। सूचना मिलते ही थाना अधिकारी लक्ष्मण डांगी जाप्ते के साथ अपनी निजी कार से मौके पर पहुंचे। यहां पहुंचकर देखा कि एक गाड़ी खड़ी थी, जिसमें 2 लोग डोडा-चूरा के कट्टे लोड कर रहे थे। पुलिस ने अपनी गाड़ी को बाहर ही खड़ा किया और पैदल अंदर गए। इस दौरान अचानक पुलिस टीम को देखकर माल लोड कर रहे दोनों तस्कर खेतों से भाग निकले।

जिस गाड़ी में माल लोड किया जा रहा था, उसमे भी 1 तस्कर बैठा हुआ था, जिसने पुलिस टीम को देखते ही उनके ऊपर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की। टीम ने अपने आप को जैसे-तैसे बचाया, लेकिन बदमाश ने फायर कर दिया। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी 2 राउंड फायर किए। इसके बाद बदमाश गाड़ी लेकर बाहर की तरफ भागा, जहां पुलिस की गाड़ी खड़ी थी। ऐसे में तस्कर ने पुलिस की गाड़ी को भी टक्कर मारी और भाग गया। पुलिस की गाड़ी में 1 कॉन्स्टेबल बैठा था, जो बाल-बाल बचा।

पुलिस टीम ने अंदर जाकर देखा तो, जहां गाड़ी में कट्टे लोड किये जा रहे थे, वहां एक कट्टा भी पड़ा हुआ था। इसके आगे मकान की सीढ़ियों के पास पहुंचे तो, वहां एक दरवाजा खुला हुआ पाया। वहीं, सीढ़ियों में भी एक मोबाइल और एक पिस्टल मिली। यह पिस्टल पूरी तरह से लोडेड था, जिसमें 6 जिंदा कारतूस भी मिले।

पुलिस को दरवाजे के अंदर जाने पर वहां कच्चा फर्श मिला। शक हुआ तो मिट्टी हटाकर देखा। नीचे एक लोहे का ढक्कन था, उसे खोल कर देखा तो अंडरग्राउंड एक कमरा बना हुआ था। जिसमें लोहे की सीढ़ियां थी। नीचे उतर के जाने पर पाया कि वहां पर डोडा-चूरा बिखरा हुआ था। सबको समेट कर बाहर रखे कट्टे में भरकर तोल करने पर कुल 14 किलो 200 ग्राम डोडाचूरा मिला। पुलिस ने खेत मालिक रामलाल सहित 3 अज्ञात तस्करों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया। इसकी जांच शंभूपुरा थाना अधिकारी मोतीराम सारण को सौंपा गया। इस कार्रवाई में थाना अधिकारी लक्ष्मण डांगी के अलावा हेड कॉन्स्टेबल रमेश चंद्र, कन्नौज चौकी इंचार्ज हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल, कॉन्स्टेबल सुभाष चंद्र, पंकज और नरेश शामिल थे।