सामूहिक बलात्कार के साथ नाबालिग से रेप के मामले में गिरफ्तारी से बचने ,पूर्व विधायक मेवाराम ने राजस्थान हाईकोर्ट में की अपील 
bisnoe-samachar

 सामूहिक बलात्कार के साथ नाबालिग से रेप के मामले में गिरफ्तारी से बचने ,पूर्व विधायक मेवाराम ने राजस्थान हाईकोर्ट में की अपील 

बाड़मेर से कांग्रेस के पूर्व विधायक मेवाराम जैन की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। दरअसल जोधपुर के राजीव गांधी नगर थाने में पीड़िता ने सामूहिक बलात्कार के साथ नाबालिग सहेली से रेप का मामला दर्ज कराया है। वहीं मामला दर्ज होने के बाद गिरफ्तारी पर रोक को लेकर जैन ने राजस्थान हाईकोर्ट में अपील की है।
WhatsApp Group Join Now
 
 सामूहिक बलात्कार के साथ नाबालिग से रेप के मामले में गिरफ्तारी से बचने ,पूर्व विधायक मेवाराम ने राजस्थान हाईकोर्ट में की अपील 

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- बाड़मेर से कांग्रेस के पूर्व विधायक मेवाराम जैन की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। दरअसल जोधपुर के राजीव गांधी नगर थाने में पीड़िता ने सामूहिक बलात्कार के साथ नाबालिग सहेली से रेप का मामला दर्ज कराया है। वहीं मामला दर्ज होने के बाद गिरफ्तारी पर रोक को लेकर जैन ने राजस्थान हाईकोर्ट में अपील की है। जैन ने काई कोर्ट में मामले में स्टे की अपील की है। जस्टिस दिनेश मेहता इस मामले की सुनवाई करेंगे। बता दें कि इस मामले पर कोर्ट में आज ही सुनवाई होगी।

आपको बता दें कि पीड़िता का आरोप है कि पांच साल पहले रामस्वरूप ने उसके साथ बलात्कार के बाद यौन शोषण किया था। वहीं दो साल पहले तत्कालीन विधायक ने उसके साथ बलात्कार किया था। आरोपियों ने उसकी उस समय नाबालिग सहेली से भी बलात्कार किया था। इतना ही नहीं आरोपियों ने पीड़िता की नाबालिग पुत्री से छेड़छाड़ भी की थी।

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त प्रेम धनदे ने बताया कि महिला ने बाड़मेर के पूर्व विधायक मेवाराम जैन, रामस्वरूप आचार्य, आरपीएस अधिकारी आनंद राजपुरोहित, बाड़मेर के कोतवाली थानाधिकारी गंगाराम खावा, उप निरीक्षक दाउद खान, बाड़मेर प्रधान गिरधरसिंह, बाड़मेर नगर पालिका के उप सभापति सूरतानसिंह, प्रवीण सेठिया और गोपाल सिंह राजपुरोहित के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई है। जिसमें पूर्व विधायक व रामस्वरूप पर सामूहिक बलात्कार और अन्य के खिलाफ डराने-धमकाने, मारपीट व दस्तावेज पर हस्ताक्षर कर ब्लैकमेलिंग की स्वीकोराक्ति का वीडियो बनाने का आरोप लगाया गया है।