पुलिसवालों ने कॉन्स्टेबल को हनी ट्रैप में फंसाकर वसूली एक करोड़ से ज्यादा की रकम 
bisnoe-samachar

पुलिसवालों ने कॉन्स्टेबल को हनी ट्रैप में फंसाकर वसूली एक करोड़ से ज्यादा की रकम 

WhatsApp Group Join Now
 
पुलिसवालों ने कॉन्स्टेबल को हनी ट्रैप में फंसाकर वसूली एक करोड़ से ज्यादा की रकम 

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- डीग जिले के कुम्हेर थानाधिकारी महेंद्र कुमार राठी और जयपुर जिले के जोबनेर थाने के कॉन्स्टेबल रोहिताश रैगर को हनी ट्रैप में फंसाकर एक करोड़ से ज्यादा वसूले गए। पड़ताल में सामने आया कि इस पूरे गिरोह में 2 पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। कुम्हेर के हेड कॉन्स्टेबल गंगाधर और खोह (भरतपुर) थाने के कॉन्स्टेबल विनोद कुमार को हिरासत में लिया गया है। इस गिरोह की सरगना महिला है, जिसे मंगलवार को गिरफ्तार किया गया था। पीड़ित पुलिसकर्मियों ने अलवर शहर के अरावली विहार थाने में सोमवार को अलग-अलग मुकदमा दर्ज कराया था।

अरावली विहार (अलवर) थानाधिकारी पवन चौबे ने बताया- इस मामले में सरगना महिला सहित 8 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। महिला भरतपुर के डीग की रहने वाली है। हाल में अलवर के अरावली विहार थाना क्षेत्र में रहती थी।

अरावली विहार थानाधिकारी पवन चौबे ने बताया कि गिरोह में कुम्हेर के हेड कॉन्स्टेबल गंगाधर और खोह थाने के कॉन्स्टेबल विनोद कुमार का नाम सामने आने पर दोनों को हिरासत में लिया गया है। हनी ट्रैप के मामले में दर्ज मामले में दोनों को भी आरोपी माना गया है।

पूछताछ में सामने आया कि- कॉन्स्टेबल विनोद कुमार का एक मकान अलवर शहर में है। उसने मकान महिला को दिया हुआ था। इस घर से ही गिरोह काम कर रहा था। महिला और गिरोह के बाकी लोगों को यही से पकड़ा गया था। एक अन्य शिकायतकर्ता भी सामने आया है। उस मामले में भी जांच जारी है।

गिरोह में सरगना रानी (रेप पीड़िता होने के कारण नाम काल्पनिक दिया जा रहा है), संगीता, दिगंबर, पूजा, ऊषा और विनोद सहित कुल 8 लोग शामिल हैं। गिरोह की तीन महिलाओं ने करीब 7 अलग-अलग मुकदमे दर्ज करवा रखे है। रानी ने पति से तलाक लिया हुआ है। उसने पति के खिलाफ भी धारा 498 के तहत मुकदमा दर्ज करवा रखा है।

अरावली थाना पुलिस बुधवार सुबह गिरोह की सरगना महिला को थाने से बाहर लेकर गई। इस दौरान मीडिया को देखकर महिला बोलने लगी कि 'उनको फंसाया गया है। उन पर अत्याचार हो रहा है।' पुलिस महिला को पूछताछ के लिए कहां लेकर गई, इस बारे में कुछ भी नहीं बताया जा रहा है।


अरावली विहार थाना में 6 जनवरी को सीआई और कॉन्स्टेबल ने अलग-अलग मुकदमा दर्ज कराया था। कॉन्स्टेबल ने रिपोर्ट में बताया था कि महिला से 2022 में मुलाकात हुई थी। परिवार के बच्चों को गाइड करने और नया मकान खरीदने के मामले में सलाह देने के नाम पर उसे जयपुर से अलवर बुलाया था। यहां आने पर नशीला पदार्थ खिलाकर उसके अश्लील फोटो और वीडियो बना लिए।

इसके बाद धमकी देकर 5 लाख रुपए कैश और करीब 6 लाख रुपए ऑनलाइन हड़प लिए। बार-बार वीडियो और फोटो वायरल करने की धमकी देकर रकम वसूली गई। इसी तरह सीआई से 90 लाख रुपए वसूले, जिसने करीब 50 लाख रुपए ऑनलाइन खातों में डलवाए हैं। यह पैसा उधार लेकर दिया गया। इसका रिकॉर्ड भी थाने में दिया गया है।