पूर्व विधायक मेवाराम जैन का 33.08 मिनट का एक और वीडियो वायरल,18 धाराओं में मामला दर्ज
bisnoe-samachar

 पूर्व विधायक मेवाराम जैन का 33.08 मिनट का एक और वीडियो वायरल,18 धाराओं में मामला दर्ज

सोशल मीडिया पर पूर्व विधायक मेवाराम जैन का एक और कथित वीडियो वायरल हुआ है। यह वीडियो 33.08 मिनट का है। चर्चा है कि यह वीडियो जोधपुर के किसी एक मकान के अंदर है।
WhatsApp Group Join Now
 
 पूर्व विधायक मेवाराम जैन का 33.08 मिनट का एक और वीडियो वायरल,18 धाराओं में मामला दर्ज

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- बाड़मेर के पूर्व विधायक मेवाराम जैन का आपत्तिजनक कथित वीडियो वायरल होने के बाद प्रदेशाध्यक्ष गोविंदसिंह डोटासरा ने मेवाराम जैन को कांग्रेस से सस्पेंड कर दिया। 20 दिन पहले जोधपुर के राजीव गांधी नगर थाने में पूर्व विधायक समेत 9 के खिलाफ पोक्सो, गैंगरेप सहित 18 धाराओं में मामला दर्ज हुआ था, इसी एफआईआर में बाड़मेर कोतवाल गंगाराम खावा, दाउद खां व बाड़मेर डीएसपी आनंद सिंह राजपुरोहित भी आरोपी है।

इन पर पीडि़ताओं को उठा कर ले जाने, गुप्तांगों में लकड़ी डालने, नग्न करने, पिस्तौल दिखा वीडियो बनाने, जान से मारने की धमकी देने जैसे गंभीर आरोप है, लेकिन अभी इन पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्यवाही करना तो दूर, जोधपुर पुलिस ने दुराचरण की रिपोर्ट भी बाड़मेर एसपी को नहीं भेजी है। इधर,तीसरे दिन सोशल मीडिया पर पूर्व विधायक का 33.08 मिनट का एक और वीडियो वायरल हुआ है।

जोधपुर के राजीव गांधी नगर थाने में दर्ज पीड़िता की एफआईआर में आरोप लगाया है कि मेवाराम जैन ने रामस्वरुप आचार्य के जरिए पीड़िता व उसके गवाह के विरुद्ध झूठा मुकदमा दर्ज करवाया और पुलिस से सांठगांठ कर 29 नवंबर 2022 को सुबह 7 बजे कोतवाल गंगाराम खावा, दाउद खां दोनों गवाह को लेकर जोधपुर आए। इसके बाद पाली रोड स्थित फार्म हाउस पर ले गए। यहां पर बाड़मेर डीएसपी आनंद सिंह राजपुरोहित व अन्य पुलिसकर्मी पहले से मौजूद थे।

कुछ देर बाद गवाह व अन्य एक को भी वहां पर लाया गया। फार्म हाउस पर कोई महिला पुलिसकर्मी नहीं थी। इस दौरान वहां पर मेवाराम जैन के 4-5 गुंडे थे। गुंडों के साथ पुलिसकर्मियों ने मिलकर पहले गवाह को बुरी तरह से पीटा। इसके बाद हाथ बांध कर पैरों पर एक डंडा रखकर दो पुलिसकर्मी ऊपर खड़े हो गए। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने गुंडों के सामने ही उन दोनों महिलाओं को नग्न किया और पिटाई शुरू कर दी। पिस्तौल दिखा कर पुलिसकर्मियों ने वीडियो बनाया। डरा-धमका कर खाली कागजों पर साइन करवाए। इसके बाद बाड़मेर कोतवाली थाना ले आए। महिलाओं को एक कमरे में ले जाकर कोतवाल व अन्य पुलिसकर्मियों ने मारपीट की।

पिस्टल दिखा कर जबरदस्ती बुलवाया कि नाबालिग व उसके साथ हुए दुष्कर्म के मामले में वो कोई कार्यवाही नहीं करना चाहते हैं और मेवाराम जैन व रामस्वरुप को जानते नहीं हैं, हम ब्लैकमेलर हैं।एफआईआर में आरोप है कि गंगाराम खावा, आनंदसिंह, मेवाराम जैन व रामस्वरुप उनको धमका रहे कि इसके बारे में किसी को बताया तो जान से मार देंगे। जैन के प्रभाव के कारण गंगाराम खावा व कई पुलिसकर्मियों ने नाबालिग, महिला व गवाह के साथ अत्याचार किया है। लगातार पीछा कर निगरानी रखी जा रही है। कोतवाल गंगाराम से डरे हुए है और यह जान से मारने की धमकियां दे रहे हैं। (नोट: इन आरोपों का जोधपुर में दर्ज एफआईआर में जिक्र है।)

सोशल मीडिया पर पूर्व विधायक मेवाराम जैन का एक और कथित वीडियो वायरल हुआ है। यह वीडियो 33.08 मिनट का है। चर्चा है कि यह वीडियो जोधपुर के किसी एक मकान के अंदर है। इसमें एक महिला पहले कैमरे को लगा कर जाती है। इसके बाद वहां पूर्व विधायक की एंट्री होती है। वीडियो में कुछ देर तक युवती के साथ चर्चा होती है। इस दौरान वीडियो में दिख रखा शख्स फोन आने पर उठाते हुए बोलता है कि वो जयपुर है। इसके बाद आपत्तिजनक वीडियो हैं।