यह कोई समान्य तस्वीर नही है। शबरी माता के मिठे बेर वाली बात याद दिलाती है
bisnoe-samachar

यह कोई समान्य तस्वीर नही है। शबरी माता के मिठे बेर वाली बात याद दिलाती है 

यह कोई समान्य तस्वीर नही है। शबरी माता के मिठे बेर वाली बात याद दिलाती है युगों युगों पुरानी बातें फिर से लौट रही है कलयुग में धरती पर, यह एक सामान्य तस्वीर नहीं यह बाड़मेर की वह तस्वीर है जिसकी शायद ही किसी ने कल्पना की होगी, पर जिस जिस का भगवान रक्षक है उसका कोई कुछ बिगाड़ नहीं सकता 
WhatsApp Group Join Now
 
जांगिड़
तस्वीर बाङमेर जिले के गुङामालानी तहसील में बांड गाव की है। 

राजस्थान बिश्नोई समाचार बाङमेर पिछले दिनों बाड़मेर जिले के बांड गांव की मानसिक विक्षिप्त मानी देवी के जंजीरों में बंधे होने की पत्रकार अशोक शेरा के मीडिया के माध्यम से खबर मिली। डॉ सागाराम जांगिड़ IPS को की एक ऐसी घटना है जांगिड़ साब गुङामालानी पहुंचे ओर मानी देवी की स्थिति देखकर मन में अत्यंत पीड़ा हुई और यथासंभव सहायता करने का मन बना। बांड गांव जाकर मानी देवी के परिजनों से जानकारी प्राप्त की तत्पश्चात इलाज के लिए उन्हें जोधपुर अस्पताल भिजवाया।

 

 

जांगिड़ साब ने बताया की मैं लगातार डॉक्टरों और मानी देवी के पारिवारिक सदस्यों के संपर्क में था। कई दिनों से अस्पताल में रहकर पूरा ट्रीटमेंट लेने के बाद मानी देवी स्वस्थ होकर घर लौट आई है। आज उन्हें देखने के लिए उनके घर गया।

 

 

मानी देवी को स्वस्थ देखकर मन को सुखद अनुभूति और प्रसन्नता मिली। मानी देवी एकदम स्वस्थ है और घर के कार्यों में भी हाथ बंटा रही है। आज मानी देवी के हाथों से बनाया भोजन करने का सौभाग्य मिला। पत्रकार अशोक शेरा सहित कई भामाशाहों ने आगे आकर मानी देवी को नया घर बनाने में मदद की, आज नए घर का गृहप्रवेश कार्यक्रम भी था। इस मुहिम से जुड़े सभी भामाशाहों, सहयोगियों का हार्दिक आभार व्यक्त किया जांगिड़ साहब ने। यह तस्वीर कोई सामान्य तस्वीर नहीं है यह तस्वीर युगों युगों पहले की तरह ही वर्तमान की है भगवान श्री राम ने माता शबरी के बोर खाए थे इस तरह यह तस्वीर उबर कर सामने आ रही है। 

प्रभु श्रीराम ने जितना सामर्थ्य हमें दिया है उसका उपयोग समाज और मानवता के उन्नयन के लिए हो, बस यही आशा है।