bisnoe-samachar

 केंद्र की सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग लेकर दिल्ली पहुंचे जाट समुदाय

WhatsApp Group Join Now
 
 केंद्र की सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग लेकर दिल्ली पहुंचे जाट समुदाय

Bishnoi Samachar Digital Desk नई दिल्ली- केंद्र की सरकारी नौकरियों में आरक्षण लेने की मांग पर अड़े भरतपुर-धौलपुर के जाटों का धरना राजस्थान में आज भी जारी है. शुक्रवार को जाट समाज की कमेटी ने दिल्ली में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के मंत्री वीरेंद्र कुमार के साथ पहले दौर की वार्ता की, जो सकारात्मक रही. इस दौरान आरक्षण दस्तावेजों की पूर्ति करने व ओबीसी आयोग में 13 फरवरी को दूसरे दौर की वार्ता करने पर चर्चा हुई.

अब 13 फरवरी को जाट समाज की कमेटी व राज्य सरकार द्वारा गठित कमेटी की नई दिल्ली स्थिति ओबीसी आयोग में दूसरे दौर की वार्ता होगी. जाट समाज का कहना है कि जब तक आरक्षण नहीं मिल जाता, तब तक महापड़ाव जारी रहेगा. गौरतलब है कि अपनी मांगों को लेकर उच्चैन उपखंड के गांव जयचोली में जाट समाज द्वारा 25 दिन से महापड़ाव डाला हुआ है. 7 फरवरी को जाट समाज ने मुंबई-दिल्ली रेलवे ट्रैक को जाम करने की चेतावनी दी. लेकिन 6 फरवरी को जाट समाज के पास राज्य सरकार से वार्ता का निमंत्रण आया और राज्य सरकार से सकारात्मक बात हुई. इसके बाद केंद्र से वार्ता के लिए जाट समाज की 6 सदस्य कमेटी दिल्ली रवाना हुई. ओबीसी आयोग नई दिल्ली में 13 फरवरी को पहुंचने के लिए पत्र भेजा है.

शुक्रवार को जाट समाज की कमेटी ने ओबीसी आयोग में पहुंचकर कमियों को जानने के लिए दस्तावेजों का अवलोकन किया. जाट समाज की कमेटी में संयोजक नेम सिंह फौजदार, सरपंच सुभाष मदेरणा, सरपंच गोविंद सिंह व प्रेम सिंह एवं सरकार की ओर से केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल व धौलपुर सांसद मनोज राजोरिया कमेटी के साथ गए हैं. सामाजिक न्याय व अधिकारिता विभाग जयपुर के निदेशक जगजीत सिंह ने जाट आरक्षण संघर्ष समिति को राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग नई दिल्ली के समक्ष 13 फरवरी को उपस्थित होने के लिए भरतपुर कलेक्टर को पत्र भेजा है. जिसमें बताया गया है कि आयोग द्वारा धौलपुर एवं भरतपुर के जाट वर्ग को केंद्रीय ओबीसी की सूची में शामिल करने के संबंध में प्रतिनिधि मंडल को आयोग के समक्ष अपना पक्ष रखने को तारीख 13 फरवरी को निर्धारित की गई है.