सांचौर के राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास पर शोध के लिए इंदु को डॉक्ट्रेट की उपाधि
bisnoe-samachar

सांचौर के राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास पर शोध के लिए इंदु को डॉक्ट्रेट की उपाधि

जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग से डॉ इंदु ने सांचौर के राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास पर अपना शोध कार्य सहायक प्रोफेसर डॉ. भरत देवड़ा के निर्देशन में पूर्ण किया। 
WhatsApp Group Join Now
 
सांचौर के राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास पर शोध के लिए इंदु को डॉक्ट्रेट की उपाधि
Bishnoi Samachar सांचौर- जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग से डॉ इंदु ने सांचौर के राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास पर अपना शोध कार्य सहायक प्रोफेसर डॉ. भरत देवड़ा के निर्देशन में पूर्ण किया। डॉ. इंदु ने अपने इस शोध कार्य में सांचौर के प्राचीन इतिहास, चौहान शासको तथा राठौड़ शासको के युग पर विस्तार से प्रकाश डाला है, साथ ही इस क्षेत्र के सांस्कृतिक इतिहास के अंतर्गत मंदिर स्थापत्य, आमजन की सांस्कृतिक परंपराओं आदि को भी अपने शोध कार्य में सम्मिलित किया है। सांचौर जिला बनने के उपरांत डॉ इंदु द्वारा किए गए शोध कार्य का महत्व बढ़ गया है। वह जल्द ही इस शोध कार्य को एक पुस्तक के रूप में प्रकाशित करना चाहती है ताकि आमजन अपने क्षेत्र के राजनीतिक एवम् सांस्कृतिक इतिहास को जान सके। डॉ इंदु वर्तमान में स्कूल व्याख्याता इतिहास के पद पर राउमावि दाता में कार्यरत है। उसके अनुसार इस शोध कार्य को पूर्ण करने में शोध निर्देशक डॉ. भरत देवड़ा, पति व्याख्याता रविन्द्र सारण, माता-पिता, सास-ससुर का पूर्ण सहयोग रहा। उनके इस कार्य के लिए इतिहास विभाग के समस्त कर्मचारीगण, सभी मित्रों, सहकर्मियों, शिक्षा विभाग के अधिकारियों एवं परिवारजनों ने बधाई दी है।